Valentine Day 2021: valentine-day-2021-poems-on-love-amir-khusro-and-ramdhari-singh-dinkar-dlnk– News18 Hindi

0
9


Valentine Day 2021: प्रेम जीवन को और ख़ास बनाता है और शब्‍द इसे व्‍यक्‍त करने का शायद सबसे ख़ूबसूरत ज़रिया होते हैं. यही वजह है कि जब बात प्रेम को व्‍यक्‍त करने की आती है, तो प्रेमियों (Lovers) के लिए सबसे अच्‍छा माध्‍यम शब्‍द ही होते हैं. ये शब्‍द ही हैं, जो प्रेम (Love) की गहराई को बयां कर देते हैं और सुनने वाले को सुकून पहुंचाते हैं. ऐसा ही एक खूबसूरत, प्रेम से भरा दिन है वैलेंटाइन डे. इस दिन अपनों से प्रेम जताया जाता है और दिल की बात की जाती है. ऐसे में इस वैलेंटाइन डे पर हम आपके लिए लाए हैं प्रेम भरे दोहे. अमीर ख़सरो हों या रामधारी सिंह ‘दिनकर’ लगभग सभी कवियों ने प्रेम की सुंदर भावनाओं को बेहद सलीके से और बहुत ख़ूबसूरत शब्‍दों में पिरोया है. आप भी प्रेम भरे इन दोहों की मिठास को महसूस कीजिए और प्रेम के इस सप्‍ताह को और खास बना दीजिए…

दोहे (अमीर खुसरो)

खुसरो रैन सुहाग की, जागी पी के संग

तन मेरो मन पियो को, दोउ भए एक रंग

खुसरो दरिया प्रेम का, उल्टी वा की धार
जो उतरा सो डूब गया, जो डूबा सो पार

खीर पकायी जतन से, चरखा दिया जला

आया कुत्ता खा गया, तू बैठी ढोल बजा

गोरी सोवे सेज पर, मुख पर डारे केस

चल खुसरो घर आपने, सांझ भयी चहु देस

खुसरो मौला के रुठते, पीर के सरने जाय

कहे खुसरो पीर के रुठते, मौला नहिं होत सहाय.

ये भी पढ़ें – Valentine Day Shayari: ‘वो ख़ुद गुलाब था उसको गुलाब क्या देता’

प्रेम (रामधारी सिंह ‘दिनकर’)

प्रेम की आकुलता का भेद

छिपा रहता भीतर मन में,

काम तब भी अपना मधु वेद

सदा अंकित करता तन में

सुन रहे हो प्रिय?

तुम्हें मैं प्यार करती हूं

और जब नारी किसी नर से कहे

प्रिय! तुम्हें मैं प्यार करती हूं

तो उचित है, नर इसे सुन ले ठहर कर

प्रेम करने को भले ही वह न ठहरे

ये भी पढ़ें – Valentine Day 2021: इस वैलेंटाइन डे को और बनाएं खास, इन चुनिंदा प्रेम कविताओं के साथ

मंत्र तुमने कौन यह मारा

कि मेरा हर कदम बेहोश है सुख से?

नाचती है रक्त की धारा

वचन कोई निकलता ही नहीं मुख से

पुरुष का प्रेम तब उद्दाम होता है

प्रिया जब अंक में होती

त्रिया का प्रेम स्थिर अविराम होता है

सदा बढता प्रतीक्षा में.



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here