Heart Attack Symptoms in Women, Alert Update; Read America Cleveland Clinic Medical Center Research Report | हार्ट अटैक के वो लक्षण जो सिर्फ महिलाओं में दिखते हैं, पेट दर्द और सांस लेने में तकलीफ हो तो नजरअंदाज न करें

0
39


  • Hindi News
  • Happylife
  • Heart Attack Symptoms In Women, Alert Update; Read America Cleveland Clinic Medical Center Research Report

21 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • अमेरिका की क्लीवलैंड क्लीनिक मेडिकल सेंटर की रिसर्च रिपोर्ट में किया गया दावा
  • पेट या आसपास अधिक असामान्य दबाव महसूस हो तो कार्डियोलॉजिस्ट से सलाह लें

अमेरिका के क्लीवलैंड क्लीनिक मेडिकल सेंटर की रिसर्च रिपोर्ट कहती है, हार्ट अटैक के दौरान छाती में दर्द के अलावा भी कई ऐसे लक्षण हैं, जो केवल महिलाओं में दिखाई पड़ते हैं। ऐसे में महिलाओं को शरीर में लगातार ये लक्षण दिखाई पड़ने पर इन्हें नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। जानिए, महिलाएं कौन से लक्षणों को अनदेखा न करें और हार्ट को कैसे हेल्दी रखें…

1. पीठ, गर्दन, जबड़े और बांहों में दर्द
हार्ट अटैक को खासतौर पर सीने में या बाएं हाथ में दर्द होने पर जोड़कर देखा जाता है, लेकिन महिलाओं में हार्ट अटैक की स्थिति में गर्दन और जबड़े में भी दर्द हो सकता है। यह दर्द तीखा या फिर लगातार बना रह सकता है।

2. सांस लेने में तकलीफ और चक्कर आना
हार्ट अटैक के दौरान सांस लेने में तकलीफ होना सबसे सामान्य लक्षण है। एक्सपर्ट के मुताबिक, इस दौरान ऐसा महसूस होता है मानो मैराथन की दौड़ पूरी की हो। व्यक्ति चलने तक में असहाय महसूस करता है।

3. तेज पेट दर्द या पेट से जुड़ी बीमारी
पेट दर्द होने पर अधिकांशत: लोग इसे फूड पॉइजनिंग, फ्लू या फिर सीने में जलन से जोड़ते हैं, लेकिन यदि पेट या उसके आसपास अधिक असामान्य दबाव महसूस हो तो हार्ट से संबंधित डॉक्टर से भी संपर्क करना चाहिए।

4. ठंडा पसीना आना
कई बार देखने में आया है कि हार्ट अटैक के दौरान महिलाओं को ठंडा पसीना आता है। कभी-कभी तनाव से भी ऐसा होता है। अचानक ठंडा पसीना आए तो डॉक्टर से संपर्क करें।

5. आराम के बावजूद थकान महसूस करना
काफी देर तक आराम करने के बावजूद भी यदि आप खुद को काफी अधिक थका हुआ महसूस करते हैं तो यह हार्ट अटैक का एक संकेत हो सकता है। उदाहरण के तौर पर यदि आपको बाथरूम तक जाने में दिक्कत हो रही है तो यह गंभीर संकेत है।

6. छाती में दबाव और दर्द महसूस होना
यदि सीने में दर्द, बेचैनी, जलन और दबाव महसूस हो तो यह हार्ट अटैक का एक संकेत हो सकता है। कुछ महिलाओं में केवल छाती की बांई तरफ दर्द न होकर पूरे सीने में दर्द होता है।

हार्ट को हेल्दी कैसे रखें, 5 बातों से समझें

खानपान : मोटा अनाज और कम मीठे फल लें

गेहूं की रोटी की जगह बाजरा, ज्वार या रागी अथवा इनका आटा मिलाकर बनाई रोटी खाएं। आम, केला, चीकू जैसे ज्यादा मीठे फल कम खाएं। इनके बजाय पपीता, कीवी, संतरा जैसे कम मीठे फल खाएं। तली और मीठी चीजें जितना कम कर दें, उतना बेहतर है। जितनी भूख से उससे 20 फीसदी कम खाएं और हर 15 दिन में वजन चेक करते रहें।

वर्कआउट : 45 मिनट की एक्सरसाइज या वॉक जरूरी

सप्ताह में पांच दिन 45 मिनट तक कसरत करें। वॉकिंग भी करते हैं तो असर दिखता है। दिल की बीमारियों की एक बड़ी वजह मोटापा है। वजन जितना बढ़ेगा और हृदय रोगों का खतरा उतना ज्यादा रहेगा। फिटनेस को इस स्तर पर लाने का प्रयास करें कि सीधे खड़े होने पर जब आप नीचे नजरें करें तो बेल्ट का बक्कल दिखे। अगर एक से डेढ़ किलोमीटर जाना है तो पैदल जाएं।

लाइफस्टाइल : जल्दी सोने-जल्दी उठने का रुटीन बनाएं, 7 घंटे की नींद जरूरी

रोजाना कम से कम 7 घंटे की नींद जरूर लें। जल्दी सोने और जल्द उठने का रूटीन बनाएं। रात 10 से सुबह 6 बजे तक सोने का आदर्श समय है। इससे शरीर नाइट साइकिल में बेहतर आराम कर सकेगा। तनाव लेने से बचें, इसका सीधा असर मस्तिष्क और हृदय पर होता है।

धूम्रपान-अल्कोहल : इससे जितना दूर रहेंगे, हार्ट उतना हेल्दी रहेगा

धूम्रपान पूरी तरह छोड़ दें। लगातार धूम्रपान करने से उसका धुआं धमनियों की लाइनिंग को कमजोर करता है। इससे धमनियों में वसा के जमा होने की आशंका और भी बढ़ जाती है। इसी तरह अल्कोहल से दूरी बना लेते हैं तो हार्ट हेल्दी रहेगा।

सोशल मीडिया : हार्ट को हेल्दी रखने के लिए अफवाहों से बचना भी जरूरी

डॉ. सुशांत पाटिल कहते हैं, सोशल मीडिया और वॉट्सऐप पर आए मैसेज में कई तरह के दावे किए जाते हैं जो आपकी सेहत को बिगाड़ सकते हैं। हार्ट को लेकर भी कई अफवाह वायरल होती हैं। जैसे- दिन की शुरुआत 4 गिलास पानी से करते हैं तो हृदय रोगों का खतरा नहीं होता। ऐसे मैसेजेस से बचें और कोई भी जानकारी लेने के लिए डॉक्टर पर ही भरोसा करें, वरना ये हालत को सुधारने की बजाय और बिगाड़ सकते हैं।

दुनिया में सबसे ज्यादा मौतें हृदय रोगों से

दुनियाभर में सबसे ज्यादा मौतें हृदय रोगों से होती हैं। वर्ल्ड हार्ट फेडरेशन के मुताबिक, दुनियाभर में हर 3 में से 1 मौत हृदय रोग से हो रही है। इसके 80 फीसदी मामले मध्य आय वर्ग वाले देशों में सामने आते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here