China’s Chang’e-5 successfully lands on moon to collect samples | चांद पर उतरा चीन का अंतरिक्ष यान, सतह से मिट्‌टी के नमूने लेकर लौटेगा; 24 नवंबर को रवाना हुआ था चांग ई-5

0
16


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बीजिंग10 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • अंतरिक्ष यान चांग ई-5 को 24 नवंबर को लॉन्च किया गया था
  • 4 दशक में पहली बार कोई देश चंद्रमा पर खुदाई करके चट्‌टान लाने जा रहा है

चीन का अंतरिक्षयान चांग ई-5 मंगलवार को चंद्रमा की सतह पर उतर गया। चीन की अंतरिक्ष एजेंसी के मुताबिक, अंतरिक्षयान चंद्रमा की सतह पर उतरा है। इस मिशन को चीन के सबसे शक्तिशाली रॉकेट लांग मार्च-5 के जरिए 24 नवंबर को लॉन्च किया गया था। मिशन के जरिए चीन चंद्रमा की सतह से मिट्टी के नमूनों को धरती पर लाएगा। करीब 4 दशक बाद ऐसा पहली बार होने जा रहा है जब कोई देश चंद्रमा के सतह की खुदाई करके वहां से चट्टान और म‍िट्टी पृथ्‍वी पर लाने जा रहा है।

ऐसे निकालेगा चट्‌टान
चंद्रमा की कक्षा में पंहुचने के बाद चांग-ई-5 ने अपने लैंडर को उसकी सतह पर भेजा। जो सुरक्षित रूप से पूर्व निर्धारित जगह पर उतर गया, जबकि उसका ऑर्बिटर चंद्रमा का चक्कर लगा रहा है। लैंडर चांद की जमीन में खुदाई कर मिट्टी और चट्टान निकालेगा। फिर से इस नमूने का लेकर असेंडर के पास जाएगा। असेंडर नमूने लेकर चंद्रमा की सतह से उड़ेगा और अंतरिक्ष में चक्‍कर काट रहे अपने मुख्य यान से जुड़ जाएगा।

चीन का मिशन चुनौती भरा क्यों है?

अमेरिका और सोवियत संघ के मिशन में अंतरिक्ष यात्री भेजे गए थे लेकिन चीन का मिशन कई तरह से चुनौती भरा है। चाइना नेशनल स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन के डिप्टी डायरेक्टर पे झॉयू कहते हैं, हमारा मिशन थोड़ा कॉम्प्लीकेटेड है क्योंकि इसमें कोई इंसान शामिल नहीं है। यह पूरी तरह से तकनीक पर आधारित है। हमारा स्पेसक्राफ्ट रोबोटिक है जो अंतरिक्ष से नमूने लाएगा।

पे कहते हैं, यह मिशन चीन में विज्ञान और तकनीक के विकास को आगे बढ़ाएगा। यह देश में स्पेस से जुड़ी नई चीजों को सामने लाने में मदद करेगा।

ये भी पढ़ें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here