Biden becomes first US presidential candidate to win 8 million votes, Trump second | बाइडेन 8 करोड़ वोट हासिल करने वाले US के पहले प्रेसिडेंशियल कैंडिडेट, ट्रम्प दूसरे नंबर पर

0
16


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

वॉशिंगटन/बीजिंग11 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

डेमोक्रेट्स के प्रेसिडेंट इलेक्ट जो बाइडेन को चुनाव में 306 इलेक्टोरल वोट मिले हैं।

अमेरिका में इस बार हुए राष्ट्रपति चुनाव में रिकॉर्ड वोटिंग हुई। यही वजह रही कि प्रेसिडेंट इलेक्ट जो बाइडेन अमेरिकी इतिहास में पहले ऐसे प्रेसिडेंट कैंडिडेट बन गए, जिन्होंने 8 करोड़ से ज्यादा पॉपुलर वोट हासिल किए। उन्हें कुल 8 करोड़ 11 हजार वोट मिले।

इसी चुनाव में एक रिकॉर्ड और बना। उनके मुकाबले में चुनाव लड़ रहे डोनाल्ड ट्रम्प को 7 करोड़ 38 लाख वोट मिले। सबसे ज्यादा वोट पाने वाले कैंडिडेट में वह दूसरे नंबर पर रहे। यानी एक ही चुनाव में जीतने और हारने वाले उम्मीदवार सबसे ज्यादा वोट पाने के मामले में पहले और दूसरे नंबर पर आ गए। सीएनएन के मुताबिक, वोटों की संख्या अभी और बढ़ सकती है, क्योंकि देशभर में काउंटिंग चल रही है।

मेल से वोटिंग की वजह से लंबी बढ़ी काउंटिंग

डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार बाइडेन को चुनाव में 306 इलेक्टोरल वोट मिले। वहीं, रिपब्लिकन पार्टी के ट्रम्प को 232 वोट मिले। व्हाइट हाउस की दौड़ जीतने के लिए 538 में से 270 इलेक्टोरल हासिल करने की जरूरत थी।कोरोना से बचे रहने के लिए बड़ी संख्या में वोटर्स ने इस बार मेल के जरिए वोटिंग की। एक्सपर्ट ने पहले ही अनुमान लगा लिया था कि इस वजह से काउंटिंग कई दिन चलेगी। अमेरिका में 3 नवंबर को वोटिंग हुई थी।

सत्ता सौंपने के लिए ट्रम्प माने
राष्ट्रपति ट्रम्प ने चुनाव के लगभग तीन हफ्ते बाद सोमवार को फॉर्मल ट्रांजिशन प्रोसेस शुरू करने पर सहमति दे दी। हालांकि, अब भी वे हार मानने को तैयार नहीं हैं। उन्होंने फिर दावा किया कि चुनाव में धांधली हुई है।

ट्रम्प कैम्पेन कई राज्यों में आए चुनाव नतीजों को कोर्ट में चुनौती दे चुका है, लेकिन हर जगह नाकामी ही मिली है।

आखिरकार शी जिनपिंग ने भी दी बधाई
अमेरिका के साथ चल रहे तनाव के बीच चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने भी आखिरकार बुधवार को जो बाइडेन को बधाई दी। इससे तय हो गया कि बीजिंग ने भी चुनाव नतीजों को मान लिया है। न्यूज एजेंसी शिन्हुआ के मुताबिक, जिनपिंग ने कहा कि चीन और अमेरिका के बीच स्वस्थ और स्थिर रिश्तों को बढ़ावा देना न केवल दोनों देशों में लोगों के बुनियादी हितों को पूरा करता है, बल्कि पूरी दुनिया की अपेक्षाओं को भी पूरा करता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here