Anil Ambani Reliance Capital Issues Tender To Sell Stake In 5 Companies | अनिल अंबानी की रिलायंस कैपिटल ने 5 कंपनियों में हिस्सेदारी बेचने के लिए टेंडर जारी किया

0
29


मुंबई8 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

अनिल अंबानी की रिलायंस कैपिटल की सब्सिडियरी में हिस्सेदारी बेचने के लिए SBI कैपिटल मार्केट्स और JM फाइनेंशियल सर्विसेस को जिम्मा दिया गया है। इन कंपनियों पर 19 हजार 805 करोड़ रुपए का कर्ज है।

  • रिलायंस जनरल, रिलायंस निप्पोन, रिलायंस असेट कंस्ट्रक्शन, रिलायंस फाइनिंशियल और रिलायंस सिक्योरिटीज में बेचेगी हिस्सेदारी
  • कंपनी के ऊपर अगस्त तक ब्याज के साथ 19,800 करोड़ से ज्यादा का कर्ज था। कंपनी को जून तिमाही में घाटा हुआ है

रिलायंस कैपिटल अपनी 5 सब्सिडियरीज में हिस्सेदारी बेचेगी। इसमें प्रमुख रूप से रिलायंस जनरल इंश्योरेंस और रिलायंस निप्पोन लाइफ इंश्योरेंस के साथ अन्य कंपनियों में हिस्सेदारी बेचने के लिए टेंडर जारी किया गया है। हिस्सेदारी को बेच कर कंपनी अपना कर्ज चुकाएगी। कंपनी के ऊपर करीबन 20 हजार करोड़ रुपए का कर्ज है।

एडीएजी की है रिलायंस कैपिटल

बता दें कि रिलायंस कैपिटल अनिल धीरूभाई अंबानी ग्रुप (ADAG) की कंपनी है। सूत्रों के मुताबिक रिलायंस कैपिटल ने इस मामले में एक्सप्रेशन ऑफ इंट्रेस्ट (EOI) जारी किया है। इस EOI को रिलायंस कैपिटल की सभी सब्सिडियरी जैसे रिलायंस जनरल, रिलायंस निप्पोन, रिलायंस सिक्योरिटीज, रिलायंस फाइनेंशियल और रिलायंस असेट रिकंस्ट्रक्शन के लिए जारी किया गया है।

डिबेंचर ट्रस्टी के जरिए प्रक्रिया होगी पूरी

इन कंपनियों में हिस्सेदारी बेचने के लिए डिबेंचर होल्डर्स और डिबेंचर ट्रस्टी की कमिटी को प्रोसेस करने के लिए कहा गया है। कंपनी की योजना रिलायंस जनरल इंश्योरेंस से पूरी तरह निकलने की योजना है। इसका पेड अप कैपिटल सितंबर 2020 तक 252 करोड़ रुपए रहा है। इसके साथ ही रिलायंस निप्पोन लाइफ में भी कंपनी 51% हिस्सेदारी बेचेगी।

जापान की कंपनी के साथ ज्वाइंट वेंचर

रिलायंस निप्पोन लाइफ इंश्योरेंस जापान की निप्पोन लाइफ और रिलायंस के साथ ज्वाइंट वेंचर में है। इसमें निप्पोन की 49% हिस्सेदारी है। इसका पेड अप कैपिटल 1,196 करोड़ रुपए 30 सितंबर तक रहा है। 30 सितंबर 2020 तक इस लाइफ इंश्योरेंस कंपनी का असेट अंडर मैनेजमेंट (एयूएम) 21 हजार 912 करोड़ रुपए रहा है। 2019-20 में इसका शुद्ध फायदा 35 करोड़ रुपए रहा है।

यह भी पढ़ें-

ब्रोकिंग फर्म में 100 पर्सेंट बिकेगी हिस्सेदारी

कंपनी की योजना ब्रोकिंग फर्म रिलायंस सिक्योरिटीज और गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनी (NBFC) रिलायंस फाइनेंशियल में 100% हिस्सेदारी बेचने की योजना है। रिलायंस फाइनेंशियल मुख्य रूप से पैसों की उधारी देने का काम करती है। योजना के मुताबिक रिलायंस कैपिटल रिलायंस हेल्थ इंश्योरेंस से भी निकलना चाहती है। साथ ही यह कई और पीई कंपनियों से भी निकलना चाह रही है।

असेट रिकंस्ट्रक्शन में 49 पर्सेंट हिस्सेदारी बिकेगी

इसके अतिरिक्त रिलायंस असेट रिकंस्ट्रक्शन में यह 49% हिस्सेदारी बेचेगी। 20 सितंबर तक इसका पोर्टफोलियो 1,996 करोड़ रुपए था। इसकी 20 % हिस्सेदारी इंडियन कमोडिटी एक्सचेंज (ICEX) में है।SBI कैपिटल मार्केट्स और JM फाइनेंशियल सर्विसेस इस पूरी हिस्सेदारी को बेचने की प्रक्रिया में शामिल हैं। ग्रुप के ऊपर 19 हजार 805 करोड़ रुपए का कर्ज है। इसमें अगस्त 2020 तक का ब्याज भी शामिल है। जुलाई में कंपनी ने कहा था कि वह उधारी देनेवालों के रिपेमेंट में फेल हो गई थी। इसे जून तिमाही में काफी घाटा हुआ था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here