4 दिन में तीसरी बार लुढ़का सोना, चांदी की चमक बढ़ी, यहां ​जानिए क्या है कारण

0
23


वायदा बाजार में सोने के दाम में गिरावट आई है.

वायदा बाजार में सोने के दाम में गिरावट आई है.

Gold Rate: वायदा बाजार में सोने के भाव में गिरावट देखने को मिल रही है. हालांकि, चांदी की कीमतों में तेजी दर्ज की जा रही है. वैश्विक बाजार में दोनों कीमती धातुओं के भाव बढ़े हैं. अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव और यूरोप में कोविड-19 संक्रमण से निवेशक सतर्क नजर आ रहे हैं.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    November 2, 2020, 7:00 PM IST

मुंबई. देश के वायदा बाजार में आज सोने के भाव में स्थि​रता देखने को मिली है, लेकिन चांदी की चमक बढ़ी है. मल्टी-कमोडिटी एक्सचेंज (MCX) पर आज सोने का भाव 0.04 फीसदी की मामूली गिरावट के साथ 50,677 रुपये प्रति 10 ग्राम के करीब कारोबार कर रहा है. पिछले चार दिनों के कारोबार में तीसरी बार इसमें गिरावट देखने को मिल रही है. जबकि, चांदी के भाव में 1 फीसदी का इजाफा देखने को मिल रहा है, जिसके बाद यह 61,510 रुपये प्रति किलोग्राम के स्तर पर कारोबार कर रहा है.

हालांकि, इस गिरावट के बावजूद कई जानकार लंबी अवधि में सोने के भाव को लेकर सकारात्मक हैं. उनका तर्क है कि अमेरिका में बहुत जल्द नए प्रोत्साहन पैकेज (Stimulus Package) का ऐलान हो सकता है. साथ ही डॉलर में कमजोरी आने की उम्मीद है. सोने के महंगाई से पार पाने के साथ करेंसी में कमजोरी के दौरान भी मांग बढ़ती है.

यह भी पढ़ें: अर्थव्यवस्था में तेजी की उम्मीद, सरकार को दूसरी छमाही में पॉजिटिव GDP ग्रोथ का अनुमानवैश्विक बाजार का भाव
वैश्विक बाजार की बात करें तो यहां उतार-चढ़ाव के बीच सोने (Gold Rate in Global Market) में तेजी देखने को मिल रही है. अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव (USA Presidential Eelection) और फेडरल रिज़र्व (US Federal Reserve) पॉलिसी की बैठक से ठीक पहले निवेशक सतर्क दिखाई दे रहे हैं. यहां स्पॉ​ट गोल्ड का भाव 0.2 फीसदी बढ़कर 1,882 डॉलर प्रति औंस पर रहा. जबकि, चांदी का भाव 1.2 फीसदी बढ़कर 23.92 डॉलर प्रति औंस पर रहा हे.

किन बातों पर निवेशकों की नजर
अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव को लेकर लगातार आ रही खबरों के बीच निवेशक काफी व्यस्त नजर आ रहे हैं. कई पोल्स में जो बाइडेन आगे नजर आ रहे हैं. लेकिन रिपब्लिकन और ​डेमोक्रेटिक में कड़ी टक्कर देखने को मिल रही है. वहीं, दूसरी ओर बीते 5 सप्ताह के दौरान यूरोप में कोविड-19 संक्रमण की संख्या दोगुना हो चुकी है. हालांकि, डॉलर में मजबूती से सोने पर दबाव बढ़ सकता है. कई करेंसी की तुलना में डॉलर इंडेक्स 0.09 फीसदी ज्यादा है.

यह भी पढ़ें: शानदार ग्रोथ: अक्टूबर में 13 साल के टॉप पर मैन्युफैक्चरिंग PMI, डिमांड से मिला बूस्ट

राष्ट्रपति चुनाव के ठीक बाद फेड की बैठक
गोल्ड ट्रेडर्स की नजर फेडरल रिज़र्व द्वारा पॉलिसी के दृष्टिकोण पर भी होगी. मौद्रिक नीति के मोर्चे पर बात करें तो अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के ठीक के बाद 4 से 5 नवंबर के बीच फेडरल रिज़र्व की बैठक होनी है.



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here