अर्थव्यवस्था को सुधारने के लिए क्या है सरकारी अगली तैयारी? वित्त सचिव ने दी ये जानकारी

0
30


नई दिल्ली. वित्त सचिव अजय भूषण पाण्डेय (Finance Secretary Ajay Bhushan Pandey) ने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार अब अन्य क्षेत्रों पर विशेष ध्यान केंद्रित कर रही है और इसके ​लिए सभी हितधारकों, (जो प्रोत्साहन घोषणाओं के अपने अगले लक्ष्य को तैयार करते हैं), से बात कर रही है. माल और सेवा कर (GST) परिषद के माध्यम से केंद्र सरकार, विपक्षी राज्यों के साथ जुड़ना जारी रखेगी, जिन्होंने जीएसटी क्षतिपूर्ति (GST Compensation) की कमी के बदले उधार लेने के विकल्पों पर अभी तक सहमति नहीं दी है. नेटवर्क 18 की सहयोगी वेबसाइट मनीकंट्रोल ने बातचीत में वित्त सचिव अजय भूषण पांडे से कई मुद्दों पर चर्चा की जिसमें वित सचिव ने सभी सवालों पर खुलकर जवाब दिए.

सवाल- वित्त मंत्री और अन्यों ने आगामी प्रोत्साहन पैमानों के बारे में बताया है, हम क्या उम्मीद कर सकते हैं?
जवाब- वित्त मंत्री समय-समय पर पैकेज और प्रोत्साहन की एक श्रृंखला पेश कर रही हैं. अब हम इसका परिणाम और प्रभाव दोनों देख सकते हैं. बात यहीं खत्म नहीं होती है. हमे लगातार सुझाव मिल रहे हैं क्योंकि यहां अभी भी कुछ ऐसे क्षेत्र हैं जिनमें हस्तक्षेप करने की आवश्यकता है. हम इन उद्योग निकाय, मंत्रालय, लघु और मध्यम उद्यम और विभिन्न अन्य क्षेत्र संबंधित हितधारकों से चर्चा कर रहे हैं. वित मंत्री पहले ही कह चुकी हैं कि अगर आवश्यक हस्तक्षेप की जरुरत हुई तो हम उन्हें छोड़ना नहीं चाहेंगे. हम उन क्षेत्रों के पता लगाएंगे जिनमें हस्तक्षेप की अधिक जरूरत है. यही कारण है कि हम हितधारकों के साथ चर्चा कर रहे हैं.

सवाल- जीएसटी क्षतिपूर्ति मुद्दे पर केंद्र पहले उधार लेने का फैसला क्यों नहीं कर सकी और फिर राज्यों को यह राशि देने का फैसला क्यों नहीं कर सका? जो धारणा बनाई गई है, वह यह है कि केरल के वित्त मंत्री ने असंतुष्ट राज्यों की ओर से कानूनी कार्रवाई की बात की और फिर केंद्र ने भी इस पर भरोसा जताया?जवाब- मैं आपको बताता हूं कि उधार लेने के मुद्दे से कैसे निपटा गया. यह हमेशा हमारे द्वारा बनाए रखा गया है कि केंद्र सरकार अनुच्छेद 293 के मापदंडों के भीतर एक विशेष उधार खिड़की बनाएगी. जब हम यह कह रहे हैं कि केंद्र उधार लेगा और इसे राज्यों को वापस भेज देगा, यही तो विशेष उधार खिड़की है. अंतत: इस मामले में कर्जदार राज्य सरकारें हैं और गारंटी राज्य का समेकित कोष है. हमें जो देखना है, वह है, क्या राज्यों को ऋण की सुविधा के लिए केंद्र द्वारा विशेष विंडो सुविधा प्रदान की गई है. बता दूं कि केंद्र सरकार के हस्तक्षेप करने के साथ और राज्यों को ऋण देने के लिए एक चैनल बनने के लिए एक विशेष विंडो बनाई गई थी, जिसके परिणामस्वरूप अंततः कम ब्याज दर मिली. दो राज्यों और दो केंद्र शासित प्रदेशों ने उपयुक्त और सुविधाजनक मान इसे अपनाया भी है.

यह भी पढ़ें:  अर्थव्यवस्था में तेजी की उम्मीद, सरकार को दूसरी छमाही में पॉजिटिव GDP ग्रोथ का अनुमान

सवाल- उन राज्यों के बारे में आगे का रास्ता क्या है जो क्षतिपूर्ति के उधार विकल्पों के लिए सहमत नहीं हैं?
जवाब- जहां तक शेष राज्यों का सवाल है तो वित्तमंत्री ने इन राज्यों के मुख्यमंत्रियों को पत्र लिख योजना में शामिल होने का अनुरोध किया है. आधिकारिक तौर पर हम उन राज्यों के साथ जुड़े रहना चाहेंगे और हम कोशिश करते रहेंगे और उन्हें समझाएंगे ताकि वे जल्द से जल्द ऋण का लाभ उठार सकें.

सवाल- महामारी से पहले, जीएसटी को सुव्यवस्थित करने और संग्रह को अधिकतम करने के बारे में चर्चा हुई थी, उस पर क्या प्रगति है?
जवाब- पिछली कई जीएसटी परिषद की बैठकों में इस पर चर्चा चल रही है. राजस्व बढ़ाने के लिए एक समिति भी बनाई गई थी. समिति ने तीन श्रेणियों में सुझाव दिए थे जिसपर जीएसटी परिषद ने चर्चा की है. प्रथम श्रेणी में जीएसटी संग्रह को सरल बनाना. इसमें कुछ सुझावों पर कदम भी उठाए गए हैं जैसे कि जीएसटी पंजीकरण के लिए आधारकार्ड का इस्तेमाल, बैंक अकाउंट को वेरिफाई करना, इनपुट टैक्स क्रेडिट के पारित होने पर प्रतिबंध आदि. द्वितीय श्रेणी में इन्वर्टेड ड्यूटी संरचना को बदल उसे तर्कसंगत बनाना है. जिसमें विशेष वस्तु मोबाइल है. मोबाइल फोन की जीएसटी की दर को 12 से 18 प्रतिशत बढ़ाया गया है. इन्वर्टेड ड्यूटी संरचना को खत्म कर दिया है. वैगन मैन्यूफैक्चरर्स, प्लास्टिक बैग निर्माता और कुछ अन्य क्षेत्र भी हैं जहां समान सुझाव दिए जा रहे हैं. जीएसटी परिषद ने महामारी के दौरान किसी भी कर की दर को नहीं बदलने के लिए एक निर्णय लिया है. इसलिए हमें कुछ समय तक प्रतीक्षा करनी होगी और परिषद इन सुझावों पर फिर से विचार करेगी.

सवाल- बजट 2020-21 में कर राजस्व 16.35 लाख करोड़ रुपये अनुमानित है। क्या कमी है जो सरकार अनुमान लगा रही है?
जवाब- राजस्व रुझान, विशेष रूप से अप्रत्यक्ष करों, जिनमें से जीएसटी एक प्रमुख घटक है. हमने जुलाई के बाद से ऊपर की ओर बढ़ना शुरू कर दिया है. सितंबर के महीने में संग्रह पिछले साल के इसी महीने से अधिक है. इसमें चार प्रतिशत की वृद्धि हुई है. अक्टूबर में हमने 1.05 लाख करोड़ रुपये के कर संग्रह की सीमा को पार कर लिया है, जो पिछले साल के इसी महीने की तुलना में 10 प्रतिशत अधिक है. वर्तमान में कुछ क्षेत्रों में अर्थव्यवस्था में गिरावट आई है और लोगों ने सावधानी बरतने और आर्थिक गतिविधियों को चालू करने के लिए कोविड-19 के साए में काम करना शुरू कर दिया है. इससे अर्थव्यवस्था सराकारत्मक दिशा में जाएगी. आयकर और कॉर्पोरेट टैक्स के मामले में हमें और इंतजार करना होगा और फिर यह देखना कि यह कैसे कवर होगा. लेकिन एक कारक बहुत निश्चित है कि यदि टर्नओवर और अगर अगले पांच महीनों में अप्रत्यक्ष कर संग्रह बढ़ा तो इसका प्रत्यक्ष कर पक्ष पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा.

यह भी पढ़ें: क्या होगा Kotak Mahindra Bank के IndusInd Bank को खरीदने के बाद? जानिए इससे जुड़ी 6 बड़ी बातें

सवाल: एलटीसी और त्योहार बोनस पैकेज के लिए घोषित राजस्व माफी क्या होगी? अब जबकि इसे गैर-सरकारी क्षेत्र में भी विस्तारित कर दिया गया है, आप इससे कितने कर्मचारियों का फायदा होने की उम्मीद कर रहे हैं?
जवाब- स्कीम की घोषणा के दौरान ही सरकारी क्षेत्र (विशेषकर केंद्र सरकार क्षेत्र) के कर्मचारियों की संख्या के बारे में बता दिया गया था. जहां तक कि निजी सेक्टर का सवाल है इसका अनुमान लगाना कठिन है क्योंकि आयकर रिटर्न में पहले ऐसा कोई डेटा नहीं लिया जाता था कि कितने लोगों ने एलटीसी का लाभ लिया है और कितने खातों पर राजस्व माफ किया गया है. राजस्व नुकसान का ठीक-ठीक अनुमान लगाना बहुत मुश्किल होगा. यहां हमारे लिए फिलहाल केवल मांग को प्रोत्साहित करना मुख्य उद्देश्य है.

सवाल- सरकार यह क्यों नहीं कह सकती कि वह वोडाफोन के पूर्वव्यापी मुद्दे को आगे नहीं बढ़ाएगी और विदेशी निवेशकों को विश्वास दिलाएगी?
जवाब- इस स्तर पर, मैं केवल यह कहूंगा कि हमें पुरस्कार का विवरण मिला है और हम सभी स्तर पर इसकी जांच कर रहे हैं. हम जल्द ही इस पर किसी निर्णय पर आएंगे. इस खबर का अनुवाद मनीकंट्रोल से किया गया है. इंग्लिश में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here