अब डेंगू-चिकनगुनिया जैसी खतरनाक बीमारियों से बचाएगा इंश्‍योरेंस! IRDA ला रहा है बीमा पॉलिसी, ये होगा फायदा

0
21


IRDA ऐसी हेल्‍थ इंश्‍योरेंस पॉलिसी पेश करने की तैयारी में है, जिसमें डेंगू और चिकनगुनिया जैसी वेक्‍टर बोर्न बीमारियों को कवर किया जाएगा.

IRDA ऐसी हेल्‍थ इंश्‍योरेंस पॉलिसी पेश करने की तैयारी में है, जिसमें डेंगू और चिकनगुनिया जैसी वेक्‍टर बोर्न बीमारियों को कवर किया जाएगा.

बीमा नियामक इरडा (IRDAI) जल्‍द ही ऐसी हेल्‍थ इंश्‍योरेंस पॉलिसी (Health Insurance Policy) लाने की तैयारी में है, जिसमें डेंगू, मलेरिया, जीका, चिकनगुनिया जैसे खतरनाक बीमारियों को कवर किया जाएगा. आइए जानते हैं इसके बारे में सबकुछ…

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    November 25, 2020, 6:44 PM IST

नई दिल्‍ली. इंश्‍योरेंस रेग्‍युलेटर एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (IRDAI) एकदूसरे से फैलने वाली बीमारियों (Vector Borne Disease) के लिए बीमा पॉलिसी (Insurance Policy) लाने की तैयारी में है. इस बारे में एक प्रस्ताव तैयार करने के बाद हितधारकों से सुझाव भी मांगे गए हैं. वेक्टर जनित बीमारियां मच्छरों, टिक्स और मक्खियों के संक्रमण से फैलती हैं. डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया प्रमुख वेक्टर जनित बीमारियां हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की पिछले साल की रिपोर्ट के मुताबिक, संक्रमण से फैलने वाले रोगों में वेक्टर जनित रोगों का 17 फीसदी है और सालाना 7 लाख से ज्यादा मौतें इसकी वजह से होती हैं.

पॉलिसी के तहत एक साल का बीमा
इरडा की इस हेल्थ इंश्योरेंस स्कीम के साथ आप डेंगू, मलेरिया जैसी बीमारियों के लिए एक साल का बीमा करा सकेंगे. वर्तमान में तैयार किए गए प्रस्ताव के तहत इस प्रोडक्ट को एक साल की अवधि के लिए पेश किया जा सकेगा. इसमें वेटिंग पीरियड 15 दिन का होगा. इस इंश्योरेंस पॉलिसी में डेंगू, मलेरिया, फाइलेरिया, काला-अजर, चिकनगुनिया, जापानी इन्सेफिलाइटिस और जीका वायरस जैसे वेक्टर जनित रोग कवर होंगे.

ये भी पढ़ें- Gold Price Today: तेज गिरावट के बाद फिर चढ़ीं सोने-चांदी की कीमतें, फटाफट जानें नए भावकौन-कौन होगा पॉलिसी में शामिल

ड्राफ्ट में दी गई जानकारी के मुताबिक, इस प्रोडक्ट का नाम वेक्टर बॉर्न डिजीज हेल्थ पॉलिसी होगा. यह एक ‘सिंगल प्रीमियम’ प्रोडक्ट होगा यानी केवल एक बार ही प्रीमियम जमा करना होगा. इस प्रीमियम प्रोडक्ट के लिए न्यूनतम उम्र 18 साल और अधिकतम उम्र 65 साल से ज्‍यादा नहीं होनी चाहिए. साथ ही 1 साल से 25 साल तक के आश्रित बच्चे भी इसके तहत कवर होंगे.

ये भी पढ़ें- SBI में अपने Minor बच्‍चों का खुलवाना चाहते हैं सेविंग अकाउंट, इन 4 आसान स्टेप्‍स को करें फॉलो

इसलिए जरूरी है हेल्थ इंश्योरेंस
पॉलिसीबाजार के हेल्थ इंश्योरेंस प्रमुख अमित छाबड़ा कहते हैं कि वेक्टर जनित रोगों को ध्यान में रखते हुए ही हम आने वाले समय में ग्राहकों की मदद करने का प्रयास करेंगे. भारत में डेंगू, मलेरिया जैसी वेक्टर जनित बीमारियों से बहुत बड़ी आबादी प्रभावित है. इसका सही इलाज नहीं मिलने के कारण काफी लोगों की मौत हो जाती है. इलाज नहीं मिलने का सबसे बड़ा कारण पैसे की कमी है. इसलिए ऐसी बीमारियों के इलाज के लिए हेल्थ इंश्योरेंस लेना बहुत जरूरी है.



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here